एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • 70 Positive points Anmol Vichar - 70 positive points 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏 1:- जीवन में वो ही व्यक्ति असफल होते है, जो सोचते है पर करते नहीं । 2 :- भगवान के भरोसे मत बैठिये क्या...
    3 दिन पहले

शनिवार, 21 जनवरी 2012

शीत की भयंकरता

इस तरह हाड  तोड़ सर्दी ने 
कर दिए थे सारे उत्साह ठंडे 
जमने लगे थे सम्बन्ध 
परन्तु फिर भी श्न्वास  की ऊष्मा 
उर्जावान बनाये हुए थी उन्हें 
नही तो शीत ने कहाँ कसर छोड़ी थी जमा देने में 
अब तो बस एक ही प्रार्थना है 
उर्जावान व गतिवान बने रहें यह श्न्वास 
जिस से बचा रहे यह अस्तित्व 
इस भयंकर शीत में ||


रचना भेजने वाले :-    श्री डॉ. वेद व्यथित जी
 ब्लॉग का नाम :-       साहित्य सर्जक
उसका लिक़ http://sahityasrajakved.blogspot.com

आप अपने रचना/लेख/अर्तिक्लेस हमें sawaisinghrajoo7@gmail.com  पर भेज सकते हैं!


19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी लगाई है!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आदरणीय बन्धुवर मेरी रचना शीत की भयंकरता को सहृदयता पूर्ण चर्चा मंच पर स्थान दिया आप का हार्दिक आभार व्यक्त करता हूँ कृपया स्वीकार कर के अनुग्रहित करें

      हटाएं
  2. बहुत सार्थक प्रस्तुति, सुंदर रचना,बेहतरीन...
    new post...वाह रे मंहगाई...

    उत्तर देंहटाएं
  3. मानव हिम युग पार कर गया..फिर ये सर्दी क्या चीज़ है...
    श्वांस अवश्य चलती रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. bndhuvr sheet to bhynkr hi hai
      aap ka hardik aabhar vykt kr rha hoon kripya swikar kren

      हटाएं
  4. इस बार सर्दी ज्यादा पड़ रही है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की जयंती पर उनको शत शत नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सार्थक प्रस्तुति| धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. सांस की ऊष्मा बनी रहे ठंडी सर्द आह न निकले सम्बन्ध न सीलन न पकड़ें .अच्छी रचना .

    उत्तर देंहटाएं
  8. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाए.....

    उत्तर देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची