एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • 70 Positive points Anmol Vichar - 70 positive points 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏 1:- जीवन में वो ही व्यक्ति असफल होते है, जो सोचते है पर करते नहीं । 2 :- भगवान के भरोसे मत बैठिये क्या...
    3 दिन पहले

शुक्रवार, 31 मई 2013

श्याम स्मृति से – एकै साधे सब सधै ...डा श्याम गुप्त ....

                           श्याम स्मृति से – एकै साधे सब सधै ...डा श्याम गुप्त ....


                                         श्याम स्मृति – एकै साधे सब सधै ...
           उद्धरणों सूक्तियों, लोकोक्तियों को पूर्णतया सम्पूर्ण रूप में तथा पूर्ण अर्थ-निष्पत्ति में लेना चाहिए | होता यह है कि प्रायः  हम अपने मतलब के अर्थ वाले शब्द समूहों को प्रयोग में लाते रहते हैं जो आधा-अधूरा फल देते हैं| आजकल ‘एकै साधे सब सधै...’ के  अर्थ-भाव को लेकर सभी चल रहे हैं अतः सेवा –साहित्य के क्षेत्र में भी तमाम नयी नयी संस्थाएं, संस्थान, वर्ग, गुट आदि खड़े होते जा रहे हैं|  कोई एक लाख बृक्ष लगाने का संकल्प लिए बैठा , कोई धरती को हरित बनाने का, जल बचाने का ....कोई पर्यावरण सुधार का तो कोई नारी उद्धार का झंडा उठाये हुए है | कोई वृद्धों की सेवा का तो कोई फुटपाथ के गरीब बच्चों के खाने पीने के प्रवंधन का | तमाम साहित्यिक बंधु, राजनैतिक व्यक्ति, पत्र-पत्रिकाएं विविधि विषयों पर चिंता व चिंतन कर रहे हैं |
           इससे उन सभी व्यक्ति, वर्ग, ग्रुप, संस्था व पत्र-पत्रिका आदि को नाम व प्रसिद्धि मिलती है, बड़े पुरस्कार भी प्राप्त हो जाते हैं, होते रहे हैं  |  वे समाज के सेलीब्रिटी बन जाते हैं, अर्थात उनका प्रायः सब कुछ सध जाता है | परन्तु क्या वे उद्देश्य व साध्य पूरे हो पाते हैं ? वर्षों वर्षों से ये पेड़ लगाए जा रहे हैं परन्तु क्या भारत हरित होपाया है, क्या गरीबी कम हुई है, फुटपाथें खाली हुई हैं, स्त्री पर हिंसा व अत्याचार कम हुए हैं?
          वास्तव में हम उस दोहे कीप्रथम पंक्ति में मस्त,  आगे के कथन का अर्थभाव भूल जाते हैं .. जो तू सेवै मूल को ..| ये सारे कृतित्व व कार्य बृक्ष की शाखाएं ही हैं ..| शाखाओं को पनपने से रोकना, पनपने हेतु जल धार से सींचना भी एक  उद्देश्य हो सकता है, परन्तु जब तक मूल के उच्छेद, सेवा या सिंचन का ‘ एक साध्य’ नहीं अपनाया जाएगा समस्याओं का उच्छेद कैसे होगा?
          मानव की समस्याओं का मूल क्या है ?निश्चय ही मानव-आचरण | खांचों में प्रयत्न की अपेक्षा यदि चिंता, चिंतन व कृतित्व इसी मूल ..मानव के आचरण सुधार के प्रति हों तो सभी समस्याएं स्वयमेव ही समाप्ति की ओर प्रयाण करने लगेंगी |कहने की आवश्यकता नहीं है कि प्रत्येक विज्ञजन मानव आचरण के बारे में जानता है ...पर उस पर चिंतन नहीं करता ...उसपर चलता नहीं है...उन्हें दैनिक जीवन के अभ्यास व कर्तव्य-पालन का अंग नहीं बनाता |   

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची