एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष - * दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष * *दलाई लामा को केवल तिब्बत के लोग ही नहीं आज देश और दुनिया में भी उनकी एक अलग आध्यात्मिक गुरु के रूप में उनकी पहचान है च...
    2 माह पहले

बुधवार, 30 मई 2012

बेटिया ......श्री दिनेश सिंह राजपुरोहित जी

बाबुल की गुडिया होती है बेटिया घर की लक्ष्मी होती है बेटिया
न जाने क्यों लोग चिडते है बेटिया से अरे ज्ञान का तो भंडार होती है बेटिया
जीवन का सार होती है बेटिया घर का नवकार होती है बेटिया
न जाने क्यों लोग शोषित करते है बेटिया को
अरे ममता की पहचान होती है बेटिया
फूलो की मुस्कान होती है बेटिया,आगनकी शान होती है बेटिया
न जाने क्यों लोग जन्म से पहले ही मार दिया जाता है बेटिया को
अरे लज्जा की पहचान होती है बेटिया
गिणों की खान होती है बेटिया उदारता की जन होती है बेटिया
न जाने क्यों लोग जिन्दा जला दिया जाता है बेटिया को
अरे पिता का तो सम्मान होती है बेटिया
ईश्वर का वरदान होती है बेटिया ईद का चाँद होती है बेटिया
न जाने क्यों लोग कोसते है बेटिया को
अरे बुलंदियों की पहचान होती है बेटिया
क्रोध का वार सहती है बेटिया,जीवन का आधार होती है बेटिया
न जाने क्यों लोग घर से निकल फेकते है बेटिया को
अरे स्वर्ग का द्वार होती है
बेटिया महानता का दूसरा नाम है बेटिया,रिश्तो  की जान होती है बेटिया
दिल से निकल फेको बेटियों के प्रति नफ़रत को क्योकि
बलिदान व त्याग का भंडार होती है बेटिया
{ श्वरचित रचना }
रचना भेजने वाले{रचनाकार}   श्री दिनेश सिंह राजपुरोहित जी
नोट :- अगर आप करते है सार्थक लेखन तो यह मंच है आपके लिए, आप अपनी रचनाओं को sawaisinghraj007@gmail.com YA 1blog.sabka@gmail.com पर मेल करें उन्हें यहाँ प्रकाशित किया जायेगा..

10 टिप्‍पणियां:

  1. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर अवश्य बने
    मुझे अपने अनुभव बताएं, जिससे कि मैं इसे और बेहतर करने का प्रयास कर सकूं!

    ** धन्यवाद **

    जवाब देंहटाएं
  2. सच हैं.............
    बेटियों सा कोई नहीं!!!!

    सुंदर भाव....

    अनु

    जवाब देंहटाएं
  3. बेटियाँ किसी से कमत्तर नही,
    कल्पना चावला बन कर भारत का नाम करगी,,,,,

    RECENT POST ,,,,, काव्यान्जलि ,,,,, ऐ हवा महक ले आ,,,,,

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति के साथ लाजवाब रचना लिखा है!

    जवाब देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची