एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष - * दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष * *दलाई लामा को केवल तिब्बत के लोग ही नहीं आज देश और दुनिया में भी उनकी एक अलग आध्यात्मिक गुरु के रूप में उनकी पहचान है च...
    2 माह पहले

शनिवार, 12 मई 2012

कुमुदिनी...डा श्याम गुप्त...

कुमुदिनी
तुम क्यों खिलखिलाती हो?
हरषाती हो ,
मुस्काती हो;
चांद को दूर से देखकर ही
खिल जाती हो।
जल मे प्रतिच्छाया से मिलकर ही,
बहल जाती हो।


कुमुदिनी ने,
 शरमाते हुए बताया-
यह जग ही परमतत्व की,
माया है, छाया है,
भाव में ही सत्य समाता है,
भावना से ही प्रेम-गाथा है।
भाव ही तो
प्रेमी-प्रेमिका में समाया है ।
वही भाव मैने
मन में जगाया है;
 मैने मन में चांद को पाया है,
तभी तो यह,
 मन-कुसुम खिलखिलाया है।


 


6 टिप्‍पणियां:

  1. कुमुदिनी
    तुम क्यों खिलखिलाती हो?
    हरषाती हो ,
    मुस्काती हो;
    चांद को दूर से देखकर ही
    खिल जाती हो।
    जल मे प्रतिच्छाया से मिलकर ही,
    बहल जाती हो।

    सुंदर रचना

    MY RECENT POST ,...काव्यान्जलि ...: आज मुझे गाने दो,...

    जवाब देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर लिखा है, सुन्दर रचना:-)

    जवाब देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची