एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • आज का सुविचार - ********आज का सुविचार ******** " दरिया ने झरने से पूछा की तुझे समुन्दर नहीं बनना क्या...? झरने ने बड़ी नम्रता से कहा, बड़ा बनकर ...
    5 सप्ताह पहले

मंगलवार, 5 जून 2012

पर्यावरण दिवस पर चार अगीत .....डा श्याम गुप्त...

 नदी व् जल
 ओ क्षीणकाय  नदी !
कहाँ है तेरा जल ,
 जो   प्लावित करता था ,
खेत खलिहान कुओं को ,
होते थे -
तैराकी के मेले ।।  

नीम  की हवा 
बड़ी बुआ की चिट्ठी आई ,
पूछा है,
मेरे लगाए नीम की ,
छाँह  की हवा
क्या अभी भी शीतल है ?

दूरियां 
वह कौवा
बस्ती में ,
बच्चों के हाथ से
रोटी छीनने ,
दो मील दूर खड़े
अलसाए, अर्धशुष्क वृक्ष से
 आता है ।।

जंगल बासी
हम जंगलों में रहते थे ,
जंगलों में ही रह रहे हैं ,
बस,
पेड़, पौधे, पशु-पक्षी -
मंजिलों में बदल गए हैं ।।



3 टिप्‍पणियां:

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची