एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष - * दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष * *दलाई लामा को केवल तिब्बत के लोग ही नहीं आज देश और दुनिया में भी उनकी एक अलग आध्यात्मिक गुरु के रूप में उनकी पहचान है च...
    2 माह पहले

सोमवार, 25 जून 2012

दहन सी दहकै.. ..डा श्याम गुप्त ...






                        
               ( घनाक्षरी छंद )

 दहन सी दहकै द्वार देहरी दगर्-दगर,
कली कुञ्ज-कुञ्ज क्यारी-क्यारी कुम्हिलाई है |
पावक प्रतीति पवन परसि पुष्प पात-पात,
जारै तरु-गातडाली-डाली  मुरझाई  है |              
जेठ की दुपहरी यों तपाये  अंग-प्रत्यंग ,
मलय बयार मन मार अलसाई  है |
तपें  नगर गाँव, छाँव ढूँढि रही शीतल छाँव ,
धरती गगन  श्याम, आगि सी लगाई है ||

सुनसान  गली वन  बाग़ बाज़ार पड़े,
जीभ को निकाल श्वान, हांफते से जा रहे |
कोई  पड़े एसी-कक्ष, कोई लेटे तरु छांह ,
कोई झलें पंखा,  कोई कूलर चला रहे |
जब कहीं आवश्यक कार्यं से है जाना पड़े,
पोंछते पसीना तेज कदमों से जारहे |
ऐनक लगाए 'श्याम, छतरी लिए हैं हाथ,
नर-नारी सब ही पसीने से नहा रहे ||           


 टप टप  टप टप,  अंग बहै स्वेद धार |
ज्यों उतरि गिरि-श्रृंग जल-धार आई है |
बहै घाटी मध्य, करि विविध प्रदेश पार,
धार सरिता की जाय सिन्धु में समाई है |
श्याम खुले केश, ढीले-ढाले वस्त्र तिय देह ,
उमंगें उरोजउर  उमंग  उमंगाई  है |
ताप से तपे हैं तन, ताप तपे तन-मन,
निरखि नैन नेहनेह निर्झर समाई  है ||


चुप-चुप चकित न चहक रहे खगवृन्द,
सारिका ने शुक से भी चौंच न लड़ाई है |
बाज औ कपोत बैठे एक ही तरु-डाल,
मूषक बिडाल भूलि बैठे शत्रुताई  है |
नाग-मोर एक ठांव, सिंह-मृग एक छाँव ,
धरती मनहु तपोभूमि  सी सुहाई है |
श्याम, गज-ग्राह मिलि बैठे सरिता के कूल,
जेठ की दुपहरी, साधु-भाव जग लाई है ||


हर  गली-गाँवहर नगर  मग ठांव ,
जन-जन, जल- शीतल पेय हैं पिला रहे |
कहीं मिष्ठान्न बटेंकहीं है ठंडाई घुटे,
मीठे जल की भी कोऊ प्याऊ लगवा रहे |
राह रोकि हाथ जोरि, शीतल-जल भेंट करि,
हर  तप्त राही को ही ठंडक दिला रहे|
भुवन भाष्कर, धरि मार्तंड रूप, श्याम,
उंच नीच भाव मनहुं मन के मिटा रहे ||

8 टिप्‍पणियां:

  1. bahut hi sundar...
    Lagta hai ab kuch rahat meelegi es bhishan garmi se...
    Sureshkimehfil.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची