एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • आज का सुविचार - ********आज का सुविचार ******** " दरिया ने झरने से पूछा की तुझे समुन्दर नहीं बनना क्या...? झरने ने बड़ी नम्रता से कहा, बड़ा बनकर ...
    2 माह पहले

शनिवार, 30 जून 2012

शुक-सारिका- ....डा श्याम गुप्त...

हे शुक !                         
तोता
हे सारिके !
तुम क्यों व्यर्थ विवाद करते हो ?
नर-नारी द्वंद्व तो सदियों पुराना है,
क्यों कलह-निनाद करते हो ?
किस उपमेय-उपमान को -
सुलझाने का प्रयत्न करते हो ?

शुक मुस्कुराया,
सारिका चहचहाई , लजाई ;
शुक की चौंच से चौंच मिलाकर ,
मैना
मुस्कुराई |
जाने से, मानने से,
सदियों पुरातन होने से ,तो-
काम नहीं चलता है |
सत-असत,
कर्म-अकर्म,
सही-गलत, पर-
विवाद करने से ही तो,
परस्पर विचार-विनिमय की कुंजी से ही तो;
समाज के अंतर्द्वार  का,

विश्व-व्यापार का,
प्रेमी-प्रेमिका के प्यार-इज़हार का -
ताला खुलता है ||

शुक तो सारिका  को,
सदा ही भाता है |
शुक-सारिका का तो-
सदा ही प्रेम का नाता है |
पर-बार-बार वार्तालाप से ,
परस्पर विचार-विनिमय से -
प्यार और बढ जाता है ||

प्रेमी-प्रेमिका का वाद-विवाद,
प्रेमालाप कहलाता है ;
गुण-दोष दिखाता है,
कमियाँ दूर करने को उकसाता है -
दोनों को और करीब लाता है |
इसीलिये तो यह-
'किस्सा तोता-मैना' कहलाता है ||    

17 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति
    आशा
    मेरा यू .आर .एल
    http://akanksha-ashablogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति....
    सुन्दर:-)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद रीना जी ...
      परस्पर विचार-विनिमय की कुंजी से ही तो;
      समाज के अंतर्द्वार का,
      ताला खुलता है ||

      हटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (01-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  5. किस्सा तो ठीक। कविता भी इस भाव से बढ़िया। लेकिन हाय! कभी शुक सारिका को मिलते नहीं देखा।:)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. क्या बात है देवेन्द्र जी.... धन्यवाद ...इतनी दूर तक सोच के लिए ..यही तो साहित्य है..
      ---यही तो किस्सा तोता-मैना है.... मिलते तो शुक-शुकी को ही देखा होगा ... सारिका तो परकीया अभिसारिका है ...तभी तो वह सारिका है...

      हटाएं
  6. धन्यवाद काजल कुमार जी....नर-नारी द्वंद्व तो सदियों पुराना है,

    उत्तर देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची