एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

शुक्रवार, 21 जून 2013

दोहे.. चित्र-विचित्र ... डा श्याम गुप्त......

दोहे.. चित्र-विचित्र ... डा श्याम गुप्त......

                                 

 माँ तेरे ही चित्र पर, नित प्रति पुष्प चढ़ायं, 
मिसरी सी वाणी मिले, मंत्री पद पा जायं | 

जबसे कुर्सी मिल गयी, मुखर बैन गए होय,
विक्रम टीले पर चढ़ा, ग्वाला विक्रम होय |

चाहे करौ प्रशंसा, करो प्रेम संवाद ,
पर पानी की बालटी भरना मेरे बाद |

झूठेहि  पब्लिक मांग कहि, फोटो नग्न खिचायं ,
बोल्ड  सीन देती रहें,  हीरोइन बन  जायं |

तेल पाउडर बेचते, झूठ बोल इठलायं,
बड़े महानायक बने, मिलें लोग हरषायं |

खींच-तान की ज़िंदगी वे धनहीन बितायं,
खींच-तान की ज़िन्दगी, वे धन हेतु बितायं |

इक दूजे को लूटते, लूट मची चहुँ और,
चोर सभी, समझें सभी, इक दूजे को चोर |

धन साधन की रेल में, भीड़ खचाखच जाय,
धक्का-मुक्की धन करे, ज्ञान कहाँ चढ़ पाय |

निज को मेल-मिलाप के, लम्बरदार बतायं,
असली पय घृत खाद्य का, नक़ल से मेल करायं  |

अपनी लाज लुटा रही, द्रुपुद-सुता बाज़ार,
इन चीरों का क्या करूं, कृष्ण खड़े लाचार |

ईश्वर अल्लाह कब मिले हमें झगड़ते यार,
फिर मानव क्यों व्यर्थ ही,करता है तकरार ||


   

4 टिप्‍पणियां:

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची