एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

  • दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष - * दलाई लामा के जन्मदिन पर विशेष * *दलाई लामा को केवल तिब्बत के लोग ही नहीं आज देश और दुनिया में भी उनकी एक अलग आध्यात्मिक गुरु के रूप में उनकी पहचान है च...
    2 माह पहले

रविवार, 6 मई 2012

मयूर नृत्य ---डा श्याम गुप्त..



 हे मयूर !
 तुम किसलिए नृत्य करते हो ? 
मयूरी, 
प्रेम की अभिव्यक्ति नहीं समझती है;
इसलिए तो तुम्हारे साथ नृत्य नहीं करती है |
तुम नृत्य लय हो जाते हो,
प्रेम आवेश में खो जाते हो ;
विरत मोरनी की याद मन में लाते हो,
इसीलिये तो  आंसू बहाते हो ||

मोरनी !
तुम क्यों नृत्य नहीं करती हो? 
क्यों प्रियतम से विरत रहती हो ?
मोरनी ने अपनी कूक से -
 वन गुंजायमान किया ,
अपना समाधान यूं दिया  ||

प्रेम,
अंतर्मन की गहराई से-
किया जाता है  ;
मेरी कूक गुंजन के बिना,
मोर कहाँ नाच पाता है  |
मयूर की  न्रित्य-छटा--
मोरनी को इतनी भाती है, कि -
सुध-बुध खोकर -
नाचना भूल जाती है |
प्रिया की प्रेम-विह्वलता में -
मोर -इतना अविभूत होजाता है कि -
प्रियतम की आँखों में -
आंसू छलक आता है ||

आँसू, तो-
महज़ एक निशानी है;
यह तो मोर-मोरनी की--
प्रेम-कहानी है  |            

5 टिप्‍पणियां:

  1. di
    prem ki ek anupam abhivykti aur anuthi paribhashha----
    bahut bahut hi behtreen
    hardik naman ke saath
    poonam

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद -- झरोखा जी....

      " जैसी देखी प्रीति तुम्हारी,
      परिभाषा वैसी रच डाली।"

      हटाएं
  2. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति । प्रेम की अति सुंदर परिभाषा का समन्वय आपकी कविता में देखने को मिला । मरे पोस्ट पर आपकी प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । धन्यवाद ।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. धन्यवाद प्रेम जी --- आपतो स्वयं सरोवर हैं...
      "प्रेम उदधि में डूबिये,
      डूबे सो उतराय।"

      हटाएं
  3. खूबसूरत रचना ...बहुत बढ़िया प्रस्तुति.

    जवाब देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची