एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

शनिवार, 28 जुलाई 2012

अक्ल बङी या भैंस ?

महामूर्ख दरबार में, लगा अनोखा केस 
फसा हुआ है मामला, अक्ल बङी या भैंस
                       अक्ल बङी या भैंस, दलीलें बहुत सी आयीं
                        महामूर्ख दरबार की अब,देखो सुनवाई
मंगल भवन अमंगल हारी- भैंस सदा ही अकल पे भारी
भैंस मेरी जब चर आये चारा- पाँच सेर हम दूध निकारा
                     कोई अकल ना यह कर पावे- चारा खा कर दूध बनावे
                      अक्ल घास जब चरने जाये- हार जाय नर अति दुख पाये
भैंस का चारा लालू खायो- निज घरवारि सी.एम. बनवायो
तुमहू भैंस का चारा खाओ- बीवी को सी.एम. बनवाओ
                         मोटी अकल मन्दमति होई- मोटी भैंस दूध अति होई
                         अकल इश्क़ कर कर के रोये- भैंस का कोई बाँयफ्रेन्ड ना होये
अकल तो ले मोबाइल घूमे- एस.एम.एस. पा पा के झूमे
भैंस मेरी डायरेक्ट पुकारे- कबहूँ मिस्ड काल ना मारे
                          भैंस कभी सिगरेट ना पीती- भैंस बिना दारू के जीती
                           भैंस कभी ना पान चबाये - ना ही इसको ड्रग्स सुहाये
शक्तिशालिनी शाकाहारी- भैंस हमारी कितनी प्यारी
अकलमन्द को कोई ना जाने- भैंस को सारा जग पहचाने
                    जाकी अकल मे गोबर होये- सो इन्सान पटक सर रोये
                     मंगल भवन अमंगल हारी- भैंस का गोबर अकल पे भारी
भैंस मरे तो बनते जूते- अकल मरे तो पङते जूते|



क्रपया ध्यान दें : ये रचना मेरी लिखी हुई नही है,ये किसी दोस्त ने भेजी थी मुझे पसंद आने की वजह से मै पोस्ट करके आप सभी तक पहुंचा रहा हूँ.लेकिन ये जिसने भी लिखी है मुझे अच्छी लगी.



''आपको ये पोस्ट कैसी लगी ? अपनी राय निचे कमेन्ट बॉक्स में जरुर दें.और अगर आपको ''अक ब्लॉग सबका ''पसंद आई ,तो आज ही ज्वाइन कर लीजिये ,और इमेल्स के जरिये नई पोस्ट्स प्राप्त कीजिये.

                                    ''आमिर दुबई.,,,


मोहब्बत नामा 
मास्टर्स टैक टिप्स 

11 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (29-07-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह! आमिर भाई ..क्या बात है...सुन्दर भेंस-पुराण ...

    मंगल भवन अमंगल हारी- भैंस का गोबर अकल पे भारी

    उत्तर देंहटाएं
  3. अक्ल होती अगर भैस की,चारा खाकर देती ढूध
    लालू जी ने चारा खाया,निकाल रहे भैसों से दूध,,,,

    RECENT POST,,,इन्तजार,,,

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज 30/07/2012 को आपकी यह पोस्ट (दीप्ति शर्मा जी की प्रस्तुति मे ) http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह...क्या विश्लेषण है....ये लिंक मै अपने फेस बुक से शेयर कर रही हूँ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. गोबर भारी अक्ल पर,तो भैस से क्या तुलना होए,
    आज जाना के अब तक बस अक्ल का बोझा थे ढोए!

    कुँवर जी,

    उत्तर देंहटाएं
  7. रचना हास परिहास से संसिक्त है व्यंजना भी लिए हैं कटाक्ष भी बहरहाल बड़ी तो भैंस ही होती है अक्ल से क्योंकि भैंस में थोड़ी सी अक्ल भी होती है लेकिन अक्ल में भैंस नहीं होती .

    उत्तर देंहटाएं

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची