एक ब्लॉग सबका में आप सभी का हार्दिक सुवागत है!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं!

यह ब्लॉग समर्पित है "सभी ब्लोग्गर मित्रो को"इस ब्लॉग में आपका स्वागत है और साथ ही इस ब्लॉग में दुसरे रचनाकारों के ब्लॉग से भी रचनाएँ उनकी अनुमति से लेकर यहाँ प्रकाशित की जाएँगी! और मैने सभी ब्लॉगों को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी ब्लोग्गर मित्रो खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं

तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी ब्लॉग पर आपका हमेशा स्वागत है!"



यहाँ प्रतिदिन पधारे

मंगलवार, 19 फ़रवरी 2013

श्याम स्मृति...जीवन योग – मेरी व्याख्या .... डा श्याम गुप्त...


1 - -छात्र जीवन मैं ज्ञान प्राप्त करना --ज्ञान योग .
2 --गृहस्थ जीवन मैं कर्म करके , धनोपार्जन के साथ दान ,पुण्य , सिद्दी -प्रिसिद्दी प्राप्त करना -- कर्म- योग ।----
                 -बिना लालच ,लोभ ,मोह के सिद्दि-प्रसिद्धि , (प्रभाव -तथा स्थिति ) का दूसरों एवं समाज के लिए    उपयोग --निष्काम कर्म
                -फल व सिद्दि प्राप्ति की इच्छा से कर्म --सकाम कर्म।
3--सिद्दि- प्रसिद्दी व जीवन मैं सफलता के बाद सारे कार्य केवल भगवद्भक्ति ,समाज सेवा ,संतति-सेवा ,धर्म, दर्शन, ईश्वरीय ज्ञान प्राप्ति के लिए ही कार्य करना -----भक्ति- योग
4- -अगली पीढी को तैयार कर देने के पश्चात, केवल स्वयं की आत्म संतुष्टि के लिए ईश्वरीय ज्ञान प्राप्ति की ओर समस्त मोह त्यागकर, कर्मत्याग व मुक्ति की इच्छा ----ईश्वर-योग, अमृत-योग, या योग है।
5--ज्ञान के साथ कर्म व भक्ति ; कर्म के साथ ज्ञान व भक्ति ; भक्ति के साथ कर्म व ज्ञान अति- आवश्यक है .........            अतः तीनों प्रकार के योग साथ -साथ प्रत्येक स्तरपर होने चाहिए - यही संसार व ज्ञान दोनों पाकर माया बंधन से मुक्ति व अमृत प्राप्ति व मोक्ष है। यही जीवन-योग है।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

एक ब्लॉग सबका में अपने ब्लॉग शामिल करने के लिए आप कमेन्ट के साथ ब्लॉग का यू.आर.एल.{URL} दे सकते !
नोट :- अगर आपका ब्लॉग पहले से ही यहाँ मौजूद है तो दोबारा मुझे अपने ब्लॉग का यू.आर.एल. न भेजें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...
इस गैज़ेट में एक गड़बड़ी थी.

लिखिए अपनी भाषा में

मेरी ब्लॉग सूची